86 साल के इस बुज़ुर्ग ने नवजातों के लिए बुनी हैं प्यारी टोपियां, सचमुच सीखने की कोई उम्र नहीं होती। है अगर हमारा मन उस चीज सीखने का है। तो हम सीख ही जाते है।

Ed Moseley वो नाम हैं, जिन्होंने ये साबित कर दिया कि सीखने की कोई उम्र नहीं होती. किसी भी समय इंसान सीख सकता है. 86 साल के इस व्यक्ति ने जीवन में कभी बुनाई नहीं की थी, लेकिन अब उन्होंने बुनाई सीख ली है. अब वो छोटे बच्चों के लिए प्यारी-प्यारी टोपियां बुनते हैं. उन्होंने इसे सीखने के लिए अपनी बेटी की मदद ली. वो कहते हैं कि शुरू में इसे सीखना आसान नहीं था. उन्होंने पहली कैप तीन घंटे में बनाई थी. लेकिन अब वे आधे या एक घंटे में इसे बना देते हैं. कभी कभी ऐसा होता की पहले हमे कुछ काम मम्मी पापा सीखा ते है। और जब हम बड़े हो जाते तो हम उन्हें सीखा देते है।

410096731

Ed Moseley अब तक 50 से ज्यादा टोपियां बन चुके हैं, उनका विचार है कि एक महीने में वे 30 टोपी बुनें. उनकी प्यारी बुनावट और खूबसूरत कलर्स इन टोपियों को और भी खूबसूरत बना देते हैं. ये तस्वीरें आप भी देखिए. देखिये की बुजुर्ग दादा जी की इस बुनाई को देख कर कितनी ख़ुशी होती है। दादा जी की बात से ये तो सच है की सीखने की कोई उमर नहीं होती। इस बात से आप लोग बेहद खुश होंगे।

831075999

बुजुर्ग दादा जी को बुनाई का इंटरेस्ट था। इस लिए उन्होंने ३० सुन्दर टोपी बुने हम कुछ भी सीख सकते है अगर हम उस चीज को मन से और खुसी से सीखना चाहे तो हम सीख सकते है।

6600190

यदि आपको हमारी पोस्ट पसंद आये तो हमे कमेंट जरूर करे और हमारे पोस्ट को शेयर जरूर करे.

Comments