क्या आप जानते है की फरवरी में 28 दिन क्यों होते हैं !

क्या आप जानते है की फरवरी में 28 दिन क्यों होते हैं !

अभी-अभी साल का सबसे छोटी महीना शुरु हुआ है। क्या आपने कभी सोचा फरवरी के साथ यह अन्याय क्यों किया गया? आखिर क्यों फरवरी सिर्फ 28 दिन का होता है? आइए हम

जाने श्रीकृष्ण की मृत्यु का आश्चर्यजनक रहस्य..
इस मीनार में भाई बहिन नहीं जा सकते एक साथ, लेकिन क्यों ?
क्या पत्नी के पैरों में छिपा है पति का भविष्य हम आपको बताते हैं।

अभी-अभी साल का सबसे छोटी महीना शुरु हुआ है। क्या आपने कभी सोचा फरवरी के साथ यह अन्याय क्यों किया गया? आखिर क्यों फरवरी सिर्फ 28 दिन का होता है? आइए हम आपको बताते हैं कि ऐसा क्या हुआ जो फरवरी लगातार तीन सालों तक सिर्फ 28 दिन का रखा गया।

फरवरी में हर चौथे साल 29 दिन होने का वैज्ञानिक कारण यह है कि पृथ्वी को सूर्य की परिक्रमा पूरा करने में 365 दिन और 6 घंटे का समय लगता है और हर साल के यह अतिरिक्त 6 घंटे बचाकर रख दिए जाते हैं। तीन सालों… के बाद अगले साल में यह घंटे जोड दिए जाते हैं और इस तरह फरवरी को एक अतिरिक्त दिन मिल जाता है। इसलिए हर चार साल बाद leap year आता है जब फरवरी महीने मे एक दिन बढ़ा कर जोड़ देते हैं ओर हर चार वर्ष बाद 29 फरवरी नामक दिनांक के दर्शन करते हैं

maxresdefault

इतिहास में लिखी गई बातों पर यकीन करें तो बेचारा फरवरी शुरुआत में कैलेंडर का हिस्सा ही नहीं था। आज जो कैलेंडर इस्तेमाल किया जाता है वह रोमन कैलेंडर से काफी मिलता-जुलता है। काफी पहले समय में यह कैलेंडर मार्च से शुरू होता था और दिसंबर में खत्म हो जाता था। तब साल में दिन केवल 304 होते थे और महीने सिर्फ दस। इसके पीछे वजह यह बताई जाती है कि उस समय 61 दिन रोम में बहुत बर्फ पड़ती थी।

लोग कोई काम नहीं कर सकते थे। रोमन लोगों को लगता था कि इन 61 दिनों को कैलेंडर में जोड़ना ही बेकार है। इसके बाद फरवरी की इस कहानी में आए रोमन सम्राट पूमा पोम्पलियस। उन्होंने इन 61 दिनों को साल में जोड़ने के लिए कैलेंडर में दो और महीने जनवरी व फरवरी जोड़ दिए। इस तरह फरवरी साल का आखिरी महीना हो गया। लेकिन इसके बाद भी कुछ त्योहारों की तारीख सही नहीं बैठी।

माना जाता है कि यही हिसाब सही करने के लिए फरवरी से दो दिन कम कर दिए गए। आगे चलकर ′जूलियस सीजर′ ने इस कैंलेडर में सुधार किया और जनवरी से साल को शुरू किया। दिसंबर साल का अंतिम महीना हो गया और फरवरी साल का दूसरा महीना हो गया।

इसलिए हर चार साल बाद leap year आता है जब फरवरी महीने मे एक दिन बढ़ा कर जोड़ देते हैं ओर हर चार वर्ष बाद 29 फरवरी नामक दिनांक के दर्शन करते हैं

यदि हमारी पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इस मे पोस्ट कमैंट्स और शेयर जरूर करे।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0