अगर गर्लफ्रेंड चाहिए तो इस पेड़ की करिए पूजा, छह दिन में होगी आपके पास गर्लफ्रेंड !

अगर गर्लफ्रेंड चाहिए तो इस पेड़ की करिए पूजा, छह दिन में होगी आपके पास गर्लफ्रेंड !

इस समय कई लड़के-लड़कियां मोहब्बत का त्यौहार वैलेनटाईन वीक मना रहे हैं। कहा जाता है कि इस समय जिन लड़कों की गर्लफ्रेंड नहीं है, उनके लिए अपनी पसंद की लड़की

माँ के लिए लिखी गयी 6 शायरियाँ जो आपका दिल छु जाएँगी, जरूर पढ़े
जिन सीरियल्स की कहानी को आप घिसीपिटी कहते हैं, वो बड़े पर्दे की सुपरहिट फ़िल्मों से
भोजपुरी फिल्मो की “हेलेन” और आइटम गर्ल इनके डांस को देखकर कोई भी इनपर फ़िदा हो जाता है

इस समय कई लड़के-लड़कियां मोहब्बत का त्यौहार वैलेनटाईन वीक मना रहे हैं। कहा जाता है कि इस समय जिन लड़कों की गर्लफ्रेंड नहीं है, उनके लिए अपनी पसंद की लड़की को रिझाने और अपने प्यार के लिए राजी करने का ये सबसे अच्छा समय होता है।

kikar2

लेकिन अगर फिर भी आपको कामयाबी नहीं मिलती है तो दुखी न होइए आज हम आपको एक ऐसे पेड़ के बारे में बताने जा रहे हैं जिसकी पूजा करने से आपको बहुत जल्द ही गर्लफ्रेंड मिल जायेगी। मिली जानकारी के अनुसार, दिल्ली यूनिवर्सिटी के हिन्दू कॉलेज में एक कीकर का पेड़ ऐसा है, जिसके बारे में मान्यता है कि इस पेड़ की पूजा करने से गर्लफ्रेंड की प्राप्ति होती है। स्टूडेंट्स इस पेड़ को ‘वर्जिन ट्री’ कहते भी हैं।

kikar

लवर्स प्वाइंट के लिए मशहूर इस पेड़ की वैलेंटाइन डे के दिन ख़ास पूजा होती है। वैलेंटाइन डे के दिन इस पेड़ को पानी से भरे हार्ट शेप के लाल गुब्बारे और कंडोम से सजाया जाता है। इसे सजाने के बाद स्टूडेंट्स यहां ‘दमदमी माई’ की फोटो भी लगाते हैं।

ba

आप ये सोच रहे हो न कि यह दमदमी माई कौन है? दरअसल, किसी भी बॉलीवुड हीरोइन को दमदमी माई बना दिया जाता है। दमदमी माई बनाने के बाद उस एक्ट्रेस की फोटो भी पेड़ पर लगाई जाती है दमदमी माई की पूजा करने से गर्लफ्रेंड मिलती है। स्टूडेंट्स का मानना है कि वैलेंटाइन डे पर होने वाली पूजा में जो भी उपस्थित रहता है और प्रसाद लेता है, उसे 6 सप्ताह के अंदर ही गर्लफ्रेंड या बॉयफ्रेंड मिल ही जाता है। साथ ही यह भी मान्यता है कि अगर वह वर्जिन है तो एक साल के अंदर उसकी वर्जिनिटी भी भंग हो जाती है। तो किस बात का इन्तजार कर रहे हैं?

अगर आपके पास गर्लफ्रेंड नहीं है और चाहिए तो तुरंत दिल्ली का टिकट कटवाइए और गर्लफ्रेंड पाइए।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0