गुरमेहर की दिल्ली में बापसी, नहीं है “देशद्रोही”

गुरमेहर की दिल्ली में बापसी, नहीं है “देशद्रोही”

डीयू की छात्रा "गुमेहर कौर" को आप सब जानते हैं कुछ टाइम पहले दिल्ली के रामजस कॉलेज में जो विवाद हुआ था आप सब को याद होगा, नहीं याद हैं तो हम आपको बतात

ये हैं WWE की नई ब्यूटी क्वीन, पर्सनल लाइफ में है इनके ऐसे ग्लैमरस अंदाज
देश के वो रियल हीरो, जिनसे नफ़रत करने वाले कभी भी नहीं मिल सकते !
इस शादी दूल्हा-दुल्हन, बाराती-घराती सभी थे बिना कपड़े के, फिर की शादी !

डीयू की छात्रा “गुमेहर कौर” को आप सब जानते हैं कुछ टाइम पहले दिल्ली के रामजस कॉलेज में जो विवाद हुआ था आप सब को याद होगा, नहीं याद हैं तो हम आपको बताते हैं

गुलमेहर ने सॉइल साइट पर एक तस्वीर शेयर की थी जिसमें लिखा ‘मैं दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ती हूं. मैं एबीवीपी से नहीं डरती. मैं अकेली नहीं हूं भारत का हर छात्र मेरे साथ है. “StudentAgainstABVP”

गुरमेहर कोर की इस पोस्ट के बाद इस मामले मैं बहुत ही विवाद हुआ था इस पोस्ट के बाद गुरमेहर कोर को रेप की धमकी मिलने लगी थी और गुरमेहर कोर की एक पुरानी वीडियो भी सामने लाया गया जिसमें उन्होंने भारत-पाकिस्तान के बीच शांति की अपील की थी. इस वीडियो में उन्होंने कहा था, ” मेरे पापा को पाकिस्तान ने नहीं बल्कि युद्ध ने मारा है ”

war1

गुरमेहर के इस मामले में बड़ी-बड़ी हस्तियों भी शामिल हो गई थी इस बजह से गुरमेहर को चुप रहना पड़ा था। लेकिन गुरमेहर एक बार फिर वापस दिल्ली लौट आई हैं इस बार गुरमेहर ने मीडिया में उनके नाम का तमाशा बना रहे लोगों को मुंहतोड़ जवाब भी दिया है.

गुरमेहर ने ट्वीट पर लिखा कि ” आपने मेरे बारे में पढ़ा है, लेखों के अनुसार अपनी राय बनाई है. अब मैं अपने बारे में अपने शब्दों में बता रही हूं. मेरा पहला ब्लॉग जिसका शीर्षक है ”

5

गुरमेहर ने लिखा है की कुछ दिन पहले मैं हर सवाल का जवाब बड़ी आसानी देती थी लेकिन अब मुझेअपने बारे में बोलने से पहले कई बार सोचना पड़ता है।

क्या मैं वो हूं, जो मीडिया मेरे बारे में दिखाता है?

क्या मैं वो हूं, जो ट्रोल्स मेरे बारे में सोचते हैं?

क्या मैं वो हूं, जो सिलेब्रिटीज़ मेरे बारे में सोचते हैं?

1

मैं अपने शहीद पापा की बेटी हूं. मैं पापा की दुलारी और प्यारी बिटियां हूं. टीवी चैनलों पर चलने वाले पोल मुझे सही या गलत साबित नहीं कर सकते. पिछले 18 सालों से मेरे पापा मेरे साथ नहीं है. मैं उनका होना महसूस नहीं कर सकती. मैं अपने पिता को एक शहीद के तौर पर नहीं, बल्कि एक इंसान के तौर पर जानती हूं।

” मेरे पिता शहीद हुए हैं, मैं उनकी बेटी हूं, लेकिन ‘मैं आपके शहीद की बेटी नहीं हूं “

 

अब भारत में किसान आत्महत्या करने पर मजबूर नहीं होंगे, ये स्टार्ट-अप करेगा उनका समाधान !

 

गर्मियों में शरीर को ठंडा रखने के लिए इन फलों का सेवन करें Garmi Ke fruits !

 

बॉलीवुड स्टार अक्षय कुमार का सपना हुआ पूरा, शहीद जवानों के परिवार की मदद के लिए लॉन्च की वेबसाइट !

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0