इस महा शिवरात्रि जांनिये शिवलींग पर  क्या ना  चढ़ाये !

इस महा शिवरात्रि जांनिये शिवलींग पर क्या ना चढ़ाये !

देवों के देव शिवशंकर भोलेनाथ अपने भक्तों के मन की बात बहुत जल्दी सुनते हैं। मन से पूजन करो तो शि‍व बहुत जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं।परन्तु शिवशंकर की पू

बॉलीवुड के Disco Dancer मिथुन दा की Story सुन अपने आप को कहे बिना रोक नही पाएंगे , “क्या बात! क्या बात!”
जिन सीरियल्स की कहानी को आप घिसीपिटी कहते हैं, वो बड़े पर्दे की सुपरहिट फ़िल्मों से
मोदी जी ने अभद्र सवाल पर न्यूज़ रिपोर्टर को जमके लताड़ा, सिर्फ 2 मिनट में बताई उसकी औकात !

देवों के देव शिवशंकर भोलेनाथ अपने भक्तों के मन की बात बहुत जल्दी सुनते हैं। मन से पूजन करो तो शि‍व बहुत जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं।परन्तु शिवशंकर की पूजा करने के दौरान कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है। खासतौर से अगर आप शिवलिंग की पूजा कर रहे हैं तो कुछ चीजों को भूलकर भी शिवलिंग पर न चढ़ाएं।

1. केतकी–केतकी के फूल एक बार ब्रह्माजी व विष्णुजी में विवाद छिड़ गया कि दोनों में श्रेष्ठ कौन है। ब्रह्माजी सृष्टि के रचयिता होने के कारण श्रेष्ठ होने का दावा कर रहे थे और भगवान विष्णु पूरी सृष्टि के पालनकर्ता के रूप में स्वयं को श्रेष्ठ कह रहे थे। तभी वहां एक विराट लिंग प्रकट हुआ। दोनों देवताओं ने सहमति से यह निश्चय किया गया कि जो इस लिंग के छोर का पहले पता लगाएगा उसे ही श्रेष्ठ माना जाएगा। अत: दोनों विपरीत दिशा में शिवलिंग की छोर ढूढंने निकले। छोर न मिलने के कारण विष्णुजी लौट आए। ब्रह्मा जी भी सफल नहीं हुए परंतु उन्होंने आकर विष्णुजी से कहा कि वे छोर तक पहुँच गए थे। उन्होंने केतकी के फूल को इस बात का साक्षी बताया। ब्रह्मा जी के असत्य कहने पर स्वयं शिव वहाँ प्रकट हुए और उन्होंने ब्रह्माजी की एक सिर काट दिया और केतकी के फूल को श्राप दिया कि शिव जी की पूजा में कभी भी केतकी के फूलों का इस्तेमाल नहीं होगा।

2. नारियल पानी-शिव जी की पूजा नारियल से होती है। लेकिन नारियल पानी से नहीं। क्योंकि शिवलिंग पर चढ़ाई जाने वाली सारी चीज़ें निर्मल होनी चाहिए यानि जिसका सेवन ना किया जाए। नारियल पानी देवताओं को चढ़ाये जाने के बाद ग्रहण किया जाता है इसीलिए शिवलिंग पर नारियल पानी नहीं चढ़ाया जाता है।

23-feb-17 1

 

कांग्रेसी नेता ने किया कांग्रेसी नेता की बेटी से रेप! पीड़िता बोली – इंसाफ नहीं मिला तो दे दूंगी जान! वायरल विडियो

3. कुमकुम-सिंदूर या कुमकुम हिंदू महिलाएं अपने पति की लम्बी उम्र के लिए लगाती हैं। जैसा की हम जानते हैं कि भगवान शिव विध्वंसक के रूप में जाने जाते हैं इसलिए शिवलिंग पर कुमकुम नहीं चढ़ाया जाता है।

4. हल्दी-शिवलिंग पर हल्दी कभी नहीं चढ़ाई जाती है क्योंकि यह महिलाओं की सुंदरता को बढ़ाने के लिए इस्तेमाल होती है। और भगवान शिव तो वैसे ही सुंदर है। जिसके कारण भगवान शिव के प्रतीक शिवलिंग पर हल्दी नही चढाई जाती है।

 

नौकरी पाने के अचूक व सरल उपाय !

 

5. तुलसी–शिव पुराण के अनुसार जालंधर नाम का असुर भगवान शिव के हाथों मारा गया था। जालंधर को एक वरदान मिला हुआ था कि वह अपनी पत्नी की पवित्रता की वजह से उसे कोई भी अपराजित नहीं कर सकता है। लेकिन जालंधर को मरने के लिए भगवान विष्णु को जालंधर की पत्नी तुलसी की पवित्रता को भंग करना पड़ा। अपने पति की मौत से नाराज़ तुलसी ने भगवान शिव का बहिष्कार कर दिया था।

यदि हमारी पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इस मे पोस्ट कमैंट्स और शेयर जरूर करे।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0