जालंधर गईं गुरमेहर, दिल्ली में विरोध मार्च, दिनभर सियासी बयानबाजी !

जालंधर गईं गुरमेहर, दिल्ली में विरोध मार्च, दिनभर सियासी बयानबाजी !

दिल्ली विश्वविद्यालय की छात्रा गुरमेहर कौर ने एबीवीपी के खिलाफ विरोध मार्च से हटते हुए उन्हें अकेले छोड़ देने का अनुरोध किया है और वह अपने परिवार के पा

ये छोटा सा काम करें, पार्टनर आपकी गुलाम बन जाएगी !
जानिये कैसे :- सिर्फ़ एक आलू से दूर हो जाएगी आपके बालों से जुड़ी हर प्रॉब्लम !
क्या आपका Birthday मई में है चमत्कारी समाधान !

दिल्ली विश्वविद्यालय की छात्रा गुरमेहर कौर ने एबीवीपी के खिलाफ विरोध मार्च से हटते हुए उन्हें अकेले छोड़ देने का अनुरोध किया है और वह अपने परिवार के पास जालंधर चली गईं। वहीं, शहीद कैप्टन मनदीप सिंह की बेटी को उसके कॉलेज लेडी श्री राम कॉलेज ने समर्थन दिया है और उसके कदम को साहसपूर्ण बताया है। गुरमेहर ने रामजस कॉलेज में हिंसा के बाद ‘मैं एबीवीपी से डरती नहीं’ अभियान शुरू किया था। उधर, गुरमेहर कौर को कथित तौर पर मिली दुष्कर्म की धमकी के संबंध में पुलिस ने मंगलवार को अज्ञात लोगों के खिलाफ यौन शोषण और आपराधिक धमकी का मामला दर्ज किया। दिल्ली विश्वविद्यालय की छात्रा गुरमेहर की तरफ से दिल्ली महिला आयोग की शिकायत पर प्राथमिकी दर्ज की गई।

दिल्ली विश्वविद्यालय, जेएनयू और जामिया के सैकड़ों छात्र और शिक्षक विश्वविद्यालयों को एबीवीपी के आक्रमण और विरोध को दबाने के खिलाफ सड़कों पर उतरे। छात्रों ने पोस्टर ले रखे थे जिन पर संदेश लिखा था, आपका राष्ट्रवाद हमारे लोकतंत्र से ऊपर नहीं है। नॉर्थ कैंपस से कला संकाय की इमारत की तरफ जाने वाली सड़क पर आयोजित इस मार्च में प्रदर्शनकारी छात्रों में मुख्य रूप से एआईएसए जैसे वाम संगठन के छात्र शामिल थे। इन्होंने एबीवीपी वापस जाओ और आजादी जैसे नारे लगाए। खालसा कॉलेज के गेट से शुरू हुए इस मार्च के रास्ते में आने वाले कॉलेजों के दरवाजे बंद थे।

एक छात्र ने कहा कि हम बहस और चर्चा के लिए फिर से जगह हासिल करने के लिए मार्च कर रहे हैं। यह अहसमति के बावजूद सहअस्तित्व की स्वतंत्रता के बारे में है। पिछले हफ्ते रामजस कॉलेज में आयोजित एक कार्यक्रम के रद्द होने के बाद एबीवीपी और एआईएसए के बीच हुई हिंसक झड़प जैसी घटना दुबारा न हो इसके लिए भारी पुलिस बल की तैनाती की गई थी। पिछले कार्यक्रम का संघ समर्थित छात्र इकाई ने यह कहकर विरोध किया था कि इसमें जेएनयू के छात्र नेता उमर खालिद और शहला राशिद को आमंत्रित किया गया था। छात्रों के साथ मार्च कर रहे एक फैकेल्टी सदस्य ने आरोप लगाया कि विश्वविद्यालय पर कब्जा कर लिया गया है और प्रशासन इसे रोकने के लिए काम नहीं कर रहा।

जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार और पूर्व उपाध्यक्ष शेहला रशीद भी प्रदर्शन में हिस्सा लेने पहुंचे। डी राजा और सीताराम येचुरी भी प्रदर्शन में शामिल हुए।

गुरमेहर अभियान से हटीं :-

गुरमेहर ने मंगलवार को ट्वीट किया कि मैं अभियान से हट रही हूं। सभी को मुबारक। मुझे अकेला छोड़ देने का अनुरोध करती हूं। मुझे जो कहना था, वह मैं कह चुकी हूं। एक चीज तय है कि अगली बार हम हिंसा या धमकियों का सहारा लेने से पहले दो बार सोचेंगे और यह इसी बारे में था। गुरमेहर ने कहा कि उसे बहुत कुछ झेलना पड़ा और 20 साल की उम्र में मैं इतना ही बदार्श्त कर सकती हूं।
अभियान वापस लेने के बाद डीयू की यह छात्रा अब एबीवीपी के सदस्यों के खिलाफ किसी गतिविधि में हिस्सा नहीं लेगी। वह दिल्ली विश्वविद्यालय में छात्रों के एक समूह द्वारा आयोजित एक मार्च में भी हिस्सा नहीं लेगी। माना जा रहा है कि गुरमेहर ने कथित तौर पर धमकियां मिलने और ट्विटर पर छिड़ी जंग के बाद यह अभियान वापस लिया है।

कौर ने ट्वीट करते हुए कहा कि यह अभियान छात्रों के बारे में है, मेरे बारे में नहीं। कृपया बड़ी संख्या में इस मार्च में हिस्सा लेने जाइए। शुभकामनाएं। अगर किसी को मेरे साहस या बहादुरी पर कोई शक है, तो मैं यही कहूंगी कि मैने काफी साहस दिखा दिया है।
वहीं, लेडी श्रीराम कॉलेज ने गुरमेहर का समर्थन करते हुए कहा है कि उसे अपना मत रखने का अधिकार है। कॉलेज ने एक बयान में कहा, हम बिना किसी डर के छात्रों का पोषण करने के संस्थान के कर्तव्य के तहत अपनी छात्रा का समर्थन करते हैं। गुरमेहर को अपनी राय रखने का अधिकार है और उसने समझदारी और बहादुरी के साथ प्रतिक्रिया दी है। उसने एक युवा नागरिक के तौर पर अपना कर्तव्य पूरा किया है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, हो सख्त कार्रवाई :-

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उप राज्यपाल अनिल बैजल से मुलाकात कर रामजस कॉलेज में हिंसा करने तथा एक छात्रा गुरमेहर कौर को धमकी देने वालों के खिलाफ सख्त कारवाई का अनुरोध किया। उपराज्यपाल से मुलाकात के बाद केजरीवाल ने पत्रकारों से कहा कि बैजल ने उन्हें आश्वासन दिया है कि दोषियों के खिलाफ हर संभव कार्रवाई की जाएगी। मुख्यमंत्री ने विश्वविद्यालय में तनावपूर्ण माहौल के लिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि इन लोगों की ज्यादतियों के कारण ही तनाव पैदा हुआ है। उन्होंने कहा कि देश भक्ति के नाम पर ये लोग सरेआम अपनी मनमानी करते हैं। खुद ही नारे लगवाते हैं और फिर खुद ही वहां विरोध करने पहुंच जाते हैं।

अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज :-

दिल्ली पुलिस प्रवक्ता और विशेष पुलिस आयुक्त दक्षिण-पश्चिम दीपेंद्र पाठक ने कहा कि आईपीसी की धारा 354ए यौन शोषण और यौन शोषण, 506 आपराधिक धमकी और आईटी एक्ट की धारा 67 के तहत अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। गुरमेहर ने सोमवार को दिल्ली महिला आयोग की प्रमुख स्वाति मालीवाल से मुलाकात की थी और कहा था कि उसे कथित तौर पर एबीवीपी के सदस्यों से सोशल मीडिया पर बलात्कार की धमकियां मिल रही हैं।

दिल्ली पुलिस ने कई ट्वीट कर कहा कि डीयू की छात्रा से ऑनलाइन बदसलूकी के संबंध में सोमवार को दिल्ली महिला आयोग की तरफ से शिकायत मिली। इसके बाद इलाके के पुलिस उपायुक्त ने उससे बात की और आवश्यक सुरक्षा मुहैया कराई। उसकी शिकायत की साइबर सेल ने जांच की और प्राथमिकी दर्ज की गई। मामले की जांच जारी है। सूत्रों ने कहा कि गुरमेहर को दिल्ली पुलिस की सुरक्षा मुहैया कराई गई है और सादे कपड़ों में पुलिसकर्मी उस इलाके में गश्त कर रहे हैं जहां वो रहती हैं। वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि उसने फेसबुक पर आए एक संदेश का स्क्रीनशॉट उपलब्ध कराया है, जिसमें एक शख्स ने उसके साथ सामुहिक दुष्कर्म और उसका अश्लील वीडियो बनाने की धमकी दी थी।

वाम चरमपंथियों को रिजिजू ने आड़े हाथ लिया :-

गुरमेहर कौर के दिमाग को कोई दूषित कर रहा है वाले बयान पर मंगलवार को सफाई देते हुए केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने कहा की उनका इशारा वामपंथियों की ओर था। उन्होंने कहा की वह अपने बयान पर कायम हैं। साथ ही चेताया कि सोशल मीडिया पर ट्वीट करते समय सावधानी बरतनी चाहिए। वहीं, उन्होंने कहा कि गुरमेहर को अपनी बात कहने की पूरी आजादी और उन्हें धमकी देने वालों से सरकार सख्ती से निपटेगी।

रिजिजू ने कहा कि राष्ट्रवाद को परिभाषित करने का किसी को अधिकार या विशेषाधिकार नहीं है। हर किसी का व्याख्या करने का अपना तरीका है। उन्होंने कहा कि वाम चरमपंथी आजादी की अभिव्यक्ति के नाम पर भारत के खिलाफ नारेबाजी करते हैं। गृह राज्य मंत्री ने कहा कि वे असहिष्णुता के नाम पर झूठी बहस पैदा करते हैं और जब भी कोई जवान शहीद होता है ये खुशी मनाते हैं, इनकी यही विचारधारा है। चीन के साथ 1962 की लड़ाई में उसका समर्थन करने वाले अब युवाओं का दिमाग प्रदूषित कर रहे हैं।

इससे पहले मंगलवार सुबह रिजिजू ने कांग्रेस पार्टी से यह कहते हुए रामजस कॉलेज घटनाक्रम से दूर रहने का अनुरोध किया था कि यह टकराव राष्ट्रवादियों और वाम चरमपंथियों के बीच है और यह विचारधारा की लड़ाई है। उन्होंने ट्वीट किया, यह राष्ट्रवादी बनाम चरम वामपंथी विचारधारा की लड़ाई है। लोग तय करेंगे कि मजबूत भारत का निमार्ण कैसे होगा। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को आड़ हाथ लेते हुए रिजिजू ने कहा कि वह दिल्ली विश्विद्यालय में अराजकता फैलाने वाले कुछ छात्रों का वह पक्ष ले रहे हैं।

रिजिजू की टिप्प्णी से वामपंथी भड़के :-

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू की वामपंथियों पर टिप्पणी के जवाब में माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा कि गांधी की हत्या पर संघ के लोगों ने खुशियां मनाई और मिठाइयां बांटी। माकपा नेता ने आरोप लगाया कि केंद्रीय मंत्री छात्रा को धमकी देने वालों का बचाव कर रहे हैं। येचुरी ने संघ पर अपनी विचारधारा लोगों पर थोपने के भी आरोप लगाए।

रामजस की जंग में बॉलवुड अभिनेत्री भी कूदी :-

रामजस कॉलेज में हिंसा पर बॉलीवुड अभिनेत्री स्वरा भास्कर ने मंगलवार को अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि हिंसा को किसी भी तरह से जायज नहीं ठहराया जा सकता। उन्होंने कहा कि डीयू की छात्रा होने के नाते वह अपील करती हैं कि अगर कोई विवाद है तो उसे बातचीत से सुलझाया जाना चाहिए।

पूर्व सैन्यकर्मी गुरमेहर के समर्थन में आए :-

पंजाब में सेना के पूर्व कर्मचारी भी मंगलवार को शहीद की बेटी गुरमेहर कौर के समर्थन में उतर आए। वहीं, डीयू की छात्रा गुरमेहर की मां रजविंदर कौर ने कहा कि वह इस विवाद को और तूल नहीं देना चाहतीं हैं। पंजाब पूर्व सैन्यकर्मी कल्याण संघ के अध्यक्ष सेवानिवृत कर्नल कुलदीप सिंह ग्रेवाल ने कहा कि गुरमेहर की ओर वह कानूनी लड़ाई लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि गुरमेहर के विचारों का सम्मान किया जाना चाहिए, उसे अपनी बात रखने का पूरा हक है।

वहीं, जालंधर के नकोदर के एक कॉलेज में प्रोफसर और शहीद कैप्टन मनदीप सिंह के भाई दविंदरदीप सिंह ने कहा कि गुरमेहर ने ऐसा कुछ नहीं कहा जो राष्ट्रविरोधी है।
रामजस विवादः गुरमेहर ने छोड़ी दिल्ली, रेप की धमकी मामले में FIR दर्ज
प्रदर्शन की अन्य फोटो देखने के लिए यहां क्लिक करें

2

प्रदर्शन के दौरान बड़ी संख्या में छात्र पहुंचे और पुलिस बल भी मौजूद।

3

रामजस विवादः गुरमेहर ने छोड़ी दिल्ली, रेप की धमकी मामले में FIR दर्ज

AVBP

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0