होली पर अपनी राशि के अनुसार करें रंगों का चयन, खुलेगा आपका भाग्य!

होली पर अपनी राशि के अनुसार करें रंगों का चयन, खुलेगा आपका भाग्य!

इस वर्ष 2 मार्च 2018 को गली-महोल्लों से लेकर गांव-शहर तक सभी लोग विभिन्न रंगों में एक दूसरे को रंगते व भीगते-भिगोते नजर आएंगे। ज्योतिष शास्त्र में हर

Shivratri 2018: शिवरात्रि 13 या 14 फरवरी को, जान लें सही तिथि और मुहूर्त
अश्वमेघ यज्ञ के दौरान भी हुई थी अर्जुन की मृत्यु।
कोई नहीं नाप पाया इस कुंड की गहराई, क्या है भीम कुंड का रहस्य

इस वर्ष 2 मार्च 2018 को गली-महोल्लों से लेकर गांव-शहर तक सभी लोग विभिन्न रंगों में एक दूसरे को रंगते व भीगते-भिगोते नजर आएंगे। ज्योतिष शास्त्र में हर रंग एक राशि से जुड़ा हुआ है। ज्योतिष विशेषज्ञों की मानें, तो होली खेलने के लिए भी राशि अनुसार रंगों का चुनाव कर व्यक्ति के जीवन में सुख-समृद्धि कई गुना बढ़ सकती है, तो आइए जानते हैं किस राशि पर कौन सा रंग चढ़ने से भविष्य होगा रंगीन।…

मेष:– इस राशि के जातक उत्साही और थोड़े उग्र होते हैं। इस बार होली के पर्व पर यदि आप लाल और गुलाबी रंग का इस्तेमाल करेंगे तो यह आपके लिये काफी भाग्यशाली रहेगा। क्योंकि ये रंग साहस, विश्वास और प्यार के रंग माने जाते हैं। इसलिये इन रंगों से होली खेलना आपके लिये मंगलदायक रहेगा और आपमें निरंतर उत्साह और ऊर्जा का संचार रहेगा। source bhakti darshan

वृषभ:- वृषभ राशि पर शुक्र देव का प्रभुत्व है जो उज्ज्वल ग्रह माना जाता है। आपको सफेद वस्त्र धारण कर पीला, आसमानी और हल्के नीले रंग से होली खेलनी चाहिए। ये रंग आपके लिए शांति और सौहार्द्र लाते हैं। इससे आपको क्रोध पर नियंत्रण प्राप्त होगा।

मिथुन:- यह राशि बुद्ध ग्रह से जुड़ा है जो बुद्धि और वाणी का स्वामी माना जाता है। यह हरे रंग का प्रतिनिधित्व भी करता है। इसलिये इस राशि के लोगों को हरे रंग से होली खेलनी चाहिए। इससे आपके जीवन में उत्साह और समृद्धि आएगी, नौकरी-व्यापार में सम्मानजनक उपलब्धि मिलेगी। हरा रंग आप मेहंदी के पत्तों से प्राप्त कर सकते हैं।

कर्क: – कर्क राशि के जातक भावुक होते हैं इसलिए इन्हें हल्का नीला, चांदी और सफेद रंग से होली का त्यौहार मनाना चाहिये। इससे इन्हें शांति और धीरज तो मिलेगा ही साथ ही इनके चंचल स्वभाव को सफेद रंग काबू में रख संयमी बनायेगा ।

सिंह:- सिंह राशि पर सूर्य का प्रभाव होता है और इसलिए इसके जातक ऊर्जावान होते हैं। इन्हें लाल, पीला और नारंगी रंगों से होली खेलनी चाहिए। ऐसा करना आप पर ना केवल सकारात्मकता का प्रभाव बढ़ाता है, बल्कि बुद्धि भी प्रखर करता है तथा आपकी प्रगति के रास्ते खुलते हैं।

कन्या:- कन्या राशि भी बुद्ध ग्रह से जुड़ा होता है और इस ग्रह से जुड़े लोगों के लिए हरा रंग शुभ माना जाता है। हरे रंग का प्रयोग जहां आपमें उत्सव मनाने की खुशी कई गुणा बढ़ा देती है, वहीं यह आपको सम्मान भी दिलाता है। नीले और लाल रंग का प्रयोग ना करें।

तुला:- तुला राशि वालों के लिए बैंगनी, नीला, भूरा और सफेद रंग शुभ माना गया है। होली पर इन रंगों के प्रयोग से आपके संबंध लोगों से और मधुर बनते हैं, साथ ही यह आपको वैभव दिलाता है।

वृश्चिक:- वृश्चिक राशि के लोगों के लिए लाल और मैरून रंग शुभ माना गया है। होली पर इस रंग के प्रयोग से जीवन में आप कई समस्याओं से बच सकते हैं। यह आपके मजबूत व्यक्तित्व को उभारेगा। साथ ही इससे आपका मान-सम्मान बढ़ेगा।

धनु:- धनु राशि के लोगों के लिए पीला या नारंगी रंग सर्वोत्तम माना गया है। हिंदू धर्म में पीला रंग बहुत शुभ रंग माना जाता है। होली पर इस रंग का प्रयोग पूरे वर्ष आपके स्वभाव को खुशनुमा और नम्र बनाए रखेगा।

मकर:- मकर राशि के लोग अंतर्मुखी स्वभाव के होते हैं। इस राशि के जातक हल्के नीले व आसमानी रंगों का इस्तेमाल करें। इन रंगों के इस्तेमाल से आपमें सकारात्मक ऊर्जा का संचार होगा व व्यक्तित्व में स्थिरता भी आयेगी।

कुम्भ:- इस राशि के लोग बेहद उत्साही होते हैं। कुम्भ जातक हमेशा कुछ न कुछ नया करने के प्रयास में रहते हैं। इनके लिए गहरा नीला और भूरा रंग सर्वोत्तम है। इसलिये यह इनमें ऊर्जा का संचार तो करेगा ही साथ ही व्यस्तता भरे जीवन में शांति व सुकून भी लेकर आयेगा। इस रंग में उपचारात्मक गुण भी मौजूद है जो कुम्भ जातकों के घर के वातावरण में सुधार लाता है।

मीन:- मीन राशि पर बृहस्पति का प्रभाव रहता है जिन्हें पीला रंग अत्यंत ही प्रिय है। इस राशि के लोगों को काले रंग के प्रयोग से बचना चाहिए। पीले रंग से होली खेलना आपके जीवन में धन-वैभव, प्रतिष्ठा-सफलता एवं समृद्धि पाने के रास्ते खोलता है। पीले रंग के इस्तेमाल से इनमें अतिउत्साह व जोश का संचार होगा।

ये भी पढ़ें –

होली पर अपनी राशि के अनुसार करें रंगों का चयन, खुलेगा भाग्य

कृष्णा ने सब कुछ जानते हुए भी क्यों मरने दिया अभिमन्यु को ?

महाभारत का युद्ध इसके केवल ३ तीरों से समाप्त हो सकता था। कौन था ये महाबली ?

अश्वमेघ यज्ञ के दौरान भी हुई थी अर्जुन की मृत्यु।

श्री हनुमान चालीसा। Hanuman Chalisa Hindi

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0