राजस्थान के इस गांव में सबका एक ही दिन का जन्म है !

राजस्थान के इस गांव में सबका एक ही दिन का जन्म है !

आधार कार्ड बनबाने के लिए कई लोग अप्लाई करते हैं पर कभी कभी तो कोई सुपर स्टार के नाम पर बनबाने के लिए अप्लाई कर देता हैं और फोटो तो किसी आती सब को पता

इन लड़कियां की हरकते देखकर हो जायेगे हैरान। आप सोच मैं पड़ जायेंगे, क्या ये भी कर सकती हैं।
April Birthday || क्या आपका बर्थ डे अप्रैल में || Which Month Baby Are You?
गणतंत्र दिवस हम सबके लिए खास, क्यों मनाया जाता हैं, पढ़े कुछ अहम तथ्य !

आधार कार्ड बनबाने के लिए कई लोग अप्लाई करते हैं पर कभी कभी तो कोई सुपर स्टार के नाम पर बनबाने के लिए अप्लाई कर देता हैं और फोटो तो किसी आती सब को पता ही हैं

ये अनोखी वारदातें राजस्थान में हो रही हैं. इसी कड़ी में एक और नया चैप्टर जुड़ गया है, राजस्थान के जैसलमेर जिले के पास पोखरण में एक गांव है जहां करीब 250 लोगों को जन्म 1 जनवरी को हुआ है, ऐसा कैसे हो सकता है, मगर ऐसा ही हुआ है. टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक पाबुपेडिया गांव के लगभग सभी लोगों की जन्म तिथि 1 जनवरी है…..

A1

यह पहली बार नहीं है जब आधार कार्ड, जिसके डाटा की विश्वसनीयता को लेकर सरकार बडे़-बड़े दावे कर रही है, के साथ खूब गड़बड़ियां की जा रही हैं. ग्रामीण इलाकों में ‘ई-मित्र’ सेंटर चल रहे हैं जहां पैसे लेकर बिना किसी डॉक्यूमेंट के भी आधार कार्ड बनाए जा रहे हैं, रिपोर्ट के मुताबिक ये इन्हीं सेंटर्स की लापरवाही की वजह से हुआ है और यहां के गांव वालों की मानें तो ये मामला प्रशासन के संज्ञान में था मगर कुछ नहीं हुआ.

इससे पहले राजस्थान के भीलवाड़ा में एक विभूति ने ओसामा बिन लादेन का आधार कार्ड बनाने की कोशिश की है. कोशिश करने वाले का नाम भी जान ल्यो : – सद्दाम हुसैन मंसूरी…

aadhar2

यहां पर एक ब्यक्ति ने इनको मौज सूझी तो इन्होंने एक फॉर्म ओसामा बिन लादेन के नाम से भी भर दिया. लादेन की एक फोटू भी ब्लर कर के आधार के डाटाबेस पर अपलोड कर दी. लेकिन आधार का काम देखने वाल यूनीक आईडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया के पास भी इंजीनियर हैं. उन्होंने ये हरकत पकड़ ली और राजस्थान पुलिस को खबर कर दी कि लादेन से यारी बढ़ा रहे इस सद्दाम को धर लिया जाए. समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक अब सद्दाम पर आईटी एक्ट के तहत केस दर्ज होगा और उस से पूछताछ होगी………

ये पहली बार नहीं है कि जब आधार रजिस्ट्रेशन कर रहे लोगों ने मसखरी की है, इस से पहले जुलाई 2012 में मध्य प्रदेश के भिंड में एक आधार कार्ड सेंटर के सुपरवाइज़र ने अपने कुत्ते के लिए आधार कार्ड बनवा लिया था, टफी नाम से. किसी ने पुलिस में शिकायत की तब कुत्ते का आधार कार्ड बनवाने वाले सुपरवाइज़र को गिरफ्तार किया गया………

dogs

ये भारत के सरकारी कर्मचारी के काम हैं सरकार तो बड़े बड़े बादे किये जाते हैं पर हकीकत क्या हैं आप देख सकते हैं ……

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0